Fri. Nov 15th, 2019
बांसुरी

बांसुरी वादन से
खिल जाते थे कमल
वृक्षों से आँसू बहने लगते
स्वर में स्वर मिलाकर
नाचने लगते थे मोर
गायें खड़े कर लेती थी कान
पक्षी हो जाते थे मुग्ध
ऐसी होती थी बांसुरी तान

नदियाँ कलकल स्वरों को
बांसुरी के स्वरों में मिलाने को थी उत्सुक
साथ में बहाकर ले जाती थी
उपहार कमल के पुष्पों के

ताकि उनके चरणों में
रख सके कुछ पूजा के फूल
ऐसा लगने लगता कि
बांसुरी और नदी मिलकर करती थी कभी पूजा

जब बजती थी बांसुरी
घन, श्याम पर बरसाने लगते
जल अमृत की फुहारें
अब समझ में आया
जादुई आकर्षण का राज
जो की आज भी जीवित है
बांसुरी की मधुर तान में

माना हमने भी
बांसुरी बजाना पर्यावरण की पूजा करने के समान है
जो की हर जीवों में
प्राण फूंकने की क्षमता रखती
और लगती सुनाई देती है
हमारी कर्ण प्रिय बांसुरी

: संजय वर्मा “दृष्टि “

1 thought on “बांसुरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!