Tue. Dec 18th, 2018

होली मन की रीत बनी है,
होली मन की प्रीत बनी है।
होली सब के दिल में बसी,
होली ही सबका गीत है।।

फागुन की ये है रखवारी,
होली लेके आई हरियाली।
पुआ पकवानों की बारी,
अम्मा के हाथों की मिठास है।।

आओ मिल-जुल कर इसे मनाये,
एक दूजे को गले लगायें।
फागुन के शुभअवसर पर,
हर्षित हो गुलाल लगायें।।

करें प्रणाम सभी बड़ों को,
यही हमारी रीत है।
बुराई पर अच्छाई की,
सबसे बड़ी यह जीत है।।

: रचयिता

प्रशान्त दीक्षित
8874337274

3 thoughts on “होली

  1. Bhut bhut pyari rachna hai,is utsav ke madhyam se dilo ke judne ko aur hmari Sanskrit aur adbhut shabhyta ko jis tarah se pradarshit kie hain aap,aapki prasansha lie shabdo ka abhav prateet ho rha mujhe,hmare lie bhut Garv ki baat hai hmari mitra itne uchaiyo ko sparsha kr rha

  2. Bhut bhut pyari rachna hai,is utsav ke madhyam se dilo ke judne ko aur hmari Sanskrit aur adbhut shabhyta ko jis tarah se pradarshit kie hain aap,aapki prasansha lie shabdo ka abhav prateet ho rha mujhe,hmare lie bhut Garv ki baat hai hmare m8itra itne uchaiyo ko sparsha kr rha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *