Tue. Dec 18th, 2018

क्यों लगा दाग?

क्यों लगा दाग?
केवल एक दिन की बात नहीं
हम सदियों से सताये गये
हमेशा ऊंच नीच जाति-पाति
के फंदों मे फँसाये गये
जिसने भी
सर उठाने की कोशिश की
ओ मारे गये, पीटे गये
और जिन्दगी भर रूलाये गये ।
मेरे इस दामन को
ज़रा गौर से देखो यारो
इसमे भी छुआ छूत के
दाग लगाये गये
ये मैं नही कहता
सब लोग जानते हैं
कि
जिनका हो गया बेजान जिस्म
ओ नफ़रत के आग से ही
जलाये गये ।
अगर जलना ही चाहते हो
तो समाज का दीपक बनो
कुछ रोशनी होगी
समाज आगे बढेगा ।
हमें पाप पुण्य की
दरिया मे कुदाया गया
हमेशा स्वर्ग-नर्क का
पाठ पढ़ाया गया
ये मै नहीं कहता
ओ लोग कहते है!
कि गंगा मे नहाने से
पाप धुल जाते हैं!
तो  फ़िर क्यों?
छुआ छूत का
दाग लगाया गया ।
-: रचयिता :-
गया प्रसाद 'आनन्द' (चित्रकार)
गया प्रसाद ‘आनन्द’ (चित्रकार)
एम.ए (समाज शास्त्र, शिक्षा शास्त्र) एवं बी.एड.
सहायक अध्यापक- बुद्ध हायर सेकण्डरी स्कूल वजीरगंज जिला- गोण्डा  उ .प्र.
पता- ग्राम-अशोक पुर टिकिया, पोस्ट- अचलपुर, जिला- गोण्डा,  पिन- 271124
मोबाइल नंबर: 9919060170

1 thought on “क्यों लगा दाग?

  1. दाग तो फिर भी धुल जाएँ, पर मन के मैल का क्या ?
    जिसने या भेदभाव बनाया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *