Tue. Dec 18th, 2018

चेतना गीत – सब पढ़े ! सब बढ़े !!

करो मेहनत से तुम सब पढ़ाई बबुआ ,
नाहीं जीवन होई आगे दुखदायी बबुआ ।
पढ़ लिख लेबौ तौ ज्ञान बढ़ जाई ,
चाहे जहाँ रहीबो सम्मान बढ़ जाई ।
होई शिक्षा से सबकै भलाई बबुआ ,
नाहीं जीवन होई आगे दुखदायी बबुआ ।

माता पिता गुरू क कहना मानो,
अपना भला इसी में जानो ।
नाहीं मनबो तो होई जग हंसाई बबुआ,
होई शिक्षा से सबकै भलाई बबुआ ।
करो मेहनत से तुम सब पढाई बबुआ,
नाहीं जीवन होई आगे दुखदायी बबुआ ।

स्कूल समय से रोज़ तुम जाओ,
मात- पिता – गुरु शीश नवाओ
हर काम समय से करना सीखो
सुन्दर अक्षर लिखना सीखो ।।
नाहीं लिखबौ तौ राइटिंग गडबडाई बबुआ,
होई शिक्षा से सबकै भलाई बबुआ ।

सदाचार कै नियम सीखो,
मेहनत से खूब पढ़ो-लिखो ।
सदा अनुशासन में रहना है अच्छाई बबुआ
नाहीं जीवन होई आगे दुखदायी बबुआ ।
करो मेहनत से तुम सब पढाई बबुआ,
होई शिक्षा से सबकै भलाई बबुआ ।

” जी०पी ०आनन्द ” कै मानव कहनवा,
झूठ ,बेईमानी ,चोरी छोड़ो ,सब बहनवा ।
छोड़ो नशा ,मदिरा ,सगरौ बुराई बबुआ,
नाहीं जीवन होई आगे दुखदायी बबुआ ।
लियौ उन्नत कै रहिया अपनाई बबुआ,
होई शिक्षा से सबकै भलाई बबुआ ।

: रचयिता

गया प्रसाद आनंद
गया प्रसाद आनन्द
(आनन्द गोण्डवी )
स०अ०( चित्रकार व कवि )
बुद्ध उ०मा०वि० करनीपुर वजीरगंज
जनपद -गोण्डा
स्वर दूत -9910960170
9838744002

 

2 thoughts on “चेतना गीत – सब पढ़े ! सब बढ़े !!

  1. Bhoot hi inspirational hai …Aise kavitawo ka samayog school me krna chahiye jisse …. Bache ghar Ki bolchal bhasa k sath es anuthi kavita ka anad le apne ko padhai se adhik jodenge …. Aur apne jindgi ko sawarg bnayenge …sath hi sath pure Bharat ko bhi😎

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *